किसानों की आमदनी बढ़ाने मे जुटी केंद्र सरकार |

200

किसानों की आमदनी को दोगुना करने का दायित्व प्रधानमंत्री मोदी ने स्वयं लिया है | इसकी जांच के लिए 5 मई को एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया है जिसमे केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा किसानों की आय को दोगुना करने के लिए किये गए प्रयासों का ब्यौरा प्रस्तुत किया जायेगा | केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों का नियमित समीक्षण इन दिनों प्रधानमंत्री द्वारा किया जा रहा है |

 

केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए कई अहम योजनाएं शुरू की गयी हैं | कृषि मंत्रालय द्वारा खेती से जुड़े अन्य उद्यमों को प्राथमिकता दी गयी है | केंद्र सरकार खेती की लागत को घटाने के साथ-साथ कृषि उपज के उचित मूल्य दिलाने के लिए भी कदम उठा रही है |

 

परंपरागत कृषि में जैविक खेती को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। किसानों की आय को बढ़ाने के लिए हर संभव उपाय का ब्यौरा प्रधानमंत्री मोदी के समक्ष रखा जायेगा | केंद्र सरकार का लक्ष्य मंडियों से बिचौलियों की भूमिका को खत्म करने, बटाईदार कानून में सुधार और अनुबंधित खेती को प्रोत्साहन देने के साथ एक किसान की औसत आय को वर्ष  2022 तक दोगुनी करना है | इसके लिए उत्पादन बढ़ाने वाले उपायों पर केंद्र सरकार द्वारा विशेष जोर दिया जायेगा |

 

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से भी इस कदम में साथ देने का आग्रह किया है | सरकार कृषि मंत्रालय के साथ विचार विमर्श करके मंडी कानून में संसोधन कर सकती है | इन सब मे ई-व्यापार, एकीकृत व्यापार लाइसेंस और निजी क्षेत्र में मंडियों की स्थापना भी शामिल है।

 

इनका उद्देश्य किसान और व्यापारी के बीच से बिचौलियों की भूमिका को सीमित करना होगा | कृषि सचिव द्वारा अपने मंत्रलय की तीन साल की प्रगति रिपोर्ट को प्रधानमंत्री के समक्ष प्रस्तुत किया जायेगा | सरकार द्वारा डेयरी, पशुधन, पोल्ट्री, मछली पालन, मधुमक्खी पालन और अन्य उद्यमों को प्रोत्साहित किये जाने पर जोर दिया जायेगा |

 

किसानों की आमदनी बढ़ाने मे जुटी केंद्र सरकार |

Post navigation


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post a free ad on Godhan